Wednesday, 24 June 2015

Acupuncture Treatment Protocol - Sacred Rings

The Ring of Fire

external image ring_f.gifI call these energetic life circuits sacred because they are so remarkably influential in regulating this magnificent temple in which we live. The first, Ring of Fire, was the result of asking what I could do beyond natural progesterone cream to assist DHEA restoration. I sensed that electrical stimulation of specific acupuncture points could regulate the entire endocrine system and indeed it does. In hundreds of individuals, we have enhanced DHEA safely. At the same time, we have demonstrated that stimulation of the Ring of Fire is effective in:
  1. Reducing by 75% the frequency and intensity of migraine.
  2. Marked improvement in 70 percent of patients with rheumatoid arthritis.
  3. Reducing pain in 80% of patients with diabetic neuropathy.
  4. Improving depression in 70% of patients.
I believe that every adult can benefit from stimulation of the Ring of Fire. My patent for the Ring of Fire is 5,609,617.
Note: For optimal stimulation of each of the Rings, the LissTENS should be used on GV20 and the lowest two body points.
For the Ring of Fire, that is GV20 and K3 bilaterally. The best results are obtained when the She-LiTENS is used on all other points.
The LissTENS is ideal for penetrating bone and has been used safely in our clinic in over 20,000 patients. It emits a maximum of 4 milliamps of current at frequencies of 15,000 times per second (Hz) modulated 15 to 500 times per second.
The She-LiTENS is a much broader band stimulator, which is more effective in activating acupuncture points. It has also been effectively and safely used in many thousands of patients.
The only contraindication to the use of either device is a cardiac pacemaker or other implanted electronic device.

The Ring of Air

external image ring_a.gifNeurotensin is an endogenous tridecapeptide found in the central nervous system. It is a neurotransmitter found in the hypothalamus, amygdala, basal ganglia, and dorsal gray of the spinal cord and it is now known that it also is produced in the intestine itself. Neurotensin plays a role in pain perception but its analgesic effects are not blocked by opioid antagonists. It also affects pituitary hormone release and gastrointestinal activity. Two possible aspects of neurotensin action in the central nervous system are involvement in the etiology of schizophrenia and its analgesic properties. Neurotensin actually is antipsychotic so that theoretically, enhancing neurotensin would prevent or treat schizophrenia. Neurotensin affects pituitary hormone regulation and a remarkable variety of gastrointestinal function. Neurotensin is a neuroleptic, not in the pharmaceutical sense of the word, but in its ability to allow cognitive dissociation. That is, neurotensin essentially increases the ability of an individual to detach from physical sensations and yet be mentally quite alert.
There is considerable clinical evidence of antinociceptive or pain relieving benefits of neurotensin. In nature, however, it is relatively rapidly metabolized so that giving neurotensin externally is not therapeutically feasible. At low blood sugar levels, neurotensin stimulates release of insulin. Interestingly, release of glucagon and somatostatin, the normal neurochemicals that are stimulated by glucose or arginine, are inhibited by neurotensin. There is a close metabolic relationship between neurotensin and histamine with neurotensin effects being reversed by histamine receptive blocks.
In summary, neurotensin has anti-inflammatory properties and decreases the body?s response to all known causes of inflammation. Because of the short half-life of neurotensin, an internally activated production is the most effective way of enhancing neurotensin effect.
It has been our intuitive perception that stimulation of the Ring of Air increases emotional, mental detachment, and helps stimulate holographic thinking or intuition. This would be compatible with its effect as a neuroleptic agent.
Stimulation of the Ring of Air with visualization and massage to these specific 13 acupuncture points has been done in classroom settings with several hundred individuals, most of whom report subjective feelings of increased connectedness accomplished at the highest levels of meditative experience. There is no accurate way of measuring lucidity or meditative states of awareness and obviously much further clinical work needs to be done, both to determine the subjective effects of activation of the Ring of Air, as well as the implications from increased levels of neurotensin.
On the other hand, electrical stimulation of the Ring of Air with the She-LiTENS has increased neurotensin levels as much as 1150 percent with an average increase of 300 percent. Although optimization of neurotensin may not be essential for longevity, its regulation of fat metabolism is at least an attractive reason to consider it! My patent for the Ring of Air is 6,233,489.
The LissTENS should be used on GV20 and Sp1A and the She-LiTENS on all other points.

The Ring of Water

external image ring_w.gif Aldosterone is the adrenal hormone that regulates water and mineral metabolism. Stimulation of the Ring of Water optimizes aldosterone levels. Low levels of aldosterone are more likely in the elderly who are prone to problems with water metabolism. Other benefits may be improved emotional balance and, when combined with stimulation of the Ring of Fire, weight loss.
The LissTENS should be used on GV20 and Sp4 and the She-LiTENS on all others.

The Ring of Earth

external image ring_e.gif The Ring of Earth significantly increases calcitonin levels within one hour of initial stimulation. Calcitonin was discovered in 1961 and has been widely used clinically for the treatment of Paget?s disease, hypercalcimia, osteoporosis, and for relief of bone pain. Calcitonin is a hormone produced by the thyroid gland and is secreted in response to high levels of calcium in the blood. It lowers the level of calcium by inhibiting bone resorption or the dissolution of bony tissues. Calcitonin plays a role in pain relief and has been noted for its analgesic effects in bone metastases in a variety of cancers, as well as in phantom limb pain. It also enhances or produces recalciflcation of osteopenic bone and has been used for treatment of peptic ulcers.
Clinically, salmon calcitonin is the form widely used therapeutically but injected pharmaceutical grade calcitonin, from the salmon, has a small risk of anaphylactic shock, which can be fatal. However, even this salmon calcitonin is a powerful analgesic agent with a potency of 30 to 50 times that of morphine, milligram for milligram. Caleitonin clinically is widely used for the treatment of Paget?s disease, hypercalcemia, osteoporosis, and relief of bone pain and, indeed, in 1992 world sales of calcitonin exceeded $900 million, of which 85 percent was for osteoporosis.
Osteoporosis is thinning of the bone through reduction in bone mass due to depletion of calcium and bone protein. Osteoporosis predisposes individuals to fractures, which are often slow to heal and heal poorly. It is more common in older adults, particularly post-menopausal women, in patients taking steroids, and in those taking steroidal drugs. Unchecked, osteoporosis can lead to changes in posture, physical abnormality (particularly in the form of a hunchback, known colloquially as ?Dowager?s Hump?), and decreased mobility. The food and drug administration, or FDA, has approved a calcitonin salmon nasal spray, as well as the injectable form for treatment of osteoporosis. However, the nasal spray may cause ulceration, inflammation of the nose or rhinitis, nosebleeds, and even sinusitis.
The effect of space travel on calcitonin levels has been the subject of studies both in animals and in astronauts and it is quite well demonstrated that even short space flights disrupt calcium metabolism and lead to decreased blood calcitonin levels, as well as rapid onset of bone loss. Interestingly, salmon calcitonin has been more effective than indomethacin in preventing heterotopic ossification, that is, deposits of calcium leading to bone formation outside the skeleton itself. Calcitonin has also been seen to help osteopenia, as well as pain, in juvenile idiopathic arthritis.
Non-osteoporotic vertebral fractures have been quite successfully treated with calcitonin, with the pain being reduced very rapidly, and the pain relief allowing for earlier mobilization and gradually restoration of activity.
One of the most interesting effects of ealcitonin is in treating chronic phantom limb pain. That is the pain that sometimes is totally incapacitating after amputation of a limb. In a study of calcitonin vs. cimetidine in gastric ulcers, it was reported that the calcitonin group had some mild side effects of headache, nausea and vomiting but calcitonin was a superior anti-ulcer drug.
Considering the fact that electrical stimulation of thirteen acupuncture points with the Ring of Earth can raise calcitonin up to 80 percent, this appears to be a very natural and safe approach without the risk of pharmaceutically available salmon calcitonin. At least it is human calcitonin produced in that particular human?s body! Hip fracture is a leading cause of death in the elderly; thus stimulation of the Ring of Earth appears to have a major potential for maintaining long-term health and longevity, as well as pain relief. It should also be of use in astronauts. A patent has been applied for. For those over 60, the Ring of Earth may be even more crucial than any other in preventing osteoporosis.
The LissTENS should be used on GV20 and K1 and the She-LiTENS on all other points.

The Ring of Crystal

external image ring_c.gif When I received the intuitive flash that led to the Ring of Crystal, I sensed that this is the crucial circuit for Regeneration of the nervous system and body as a whole. Cellular physiologists tell us that every cell in the body is regenerated within a maximum of seven years. Some, of course, are replaced within hours or days. Unfortunately, it is Free Radicals that ultimately adversely affect cell physiology and regeneration.
Free radicals are somewhat like the ozone layer, which is essential in destroying some cosmic radiation and provides a protective atmospheric shield. In our bodies, free radicals are ?wild? oxidized chemicals that are a contributor to virtually all illnesses, aging, and death.
Stimulation of the Ring of Crystal, which reduces free radicals, appears either to enhance natural antioxidant levels or allow the body to produce its own antioxidants.
Oxidative stress is thought to be involved in the aging process in aerobic organisms and to play a role in the pathogenesis of a variety of disease states, including Alzheimer?s disease, myocardial infarction, arteriosclerosis, Parkinson?s disease, autoimmune diseases, radiation injury, emphysema, sunburn, glomerular disorders, schizophrenia, sickle cell disease, leukemia, osteoporosis, infertility, cancer, retinopathy, and noise related hearing impairment. Oxidative stress is the result of free radicals, such as the hydroxyl radical, reacting with biological macromolecules, such as lipids, proteins, nucleic acid and carbohydrates. The initial reaction generates a second radical, which in turn can react with a second macromolecule to continue the chain reaction. In the process of reacting, a free radical can modify protein or DNA structures, disrupt individual nucleotide bases, and thereby cause effects such as single-strand breaks and cross-linking in nucleic acids - or DNA! Free radical induced oxidative stress has been associated in a number of studies with major risk for cardiovascular disease.
Free radical-induced oxidative stress is a major factor in the long-term tissue degradation associated with aging. Aging appears to be the cumulative result of oxidative damage to the cells and tissues of the body that arises primarily as the result of aerobic metabolism or burning oxygen. Several lines of evidence have been used to support this hypothesis including the claims that:
Variation in the lifespan of different species is correlated with metabolic rate and protective antioxidant activity. Enhanced expression of antioxidant enzymes in experimental animals can produce a significant increase in longevity.
Cellular levels of free radical damage increase with age. Reduced caloric intake leads to a decline in the production of free radicals and an increase in life span.
The free radical theory may also be used to explain many of the structural features that develop with aging, including the lipid peroxidation of membranes, the formation of age pigments, cross-linkage of proteins, DNA damage, and decline of mitochondrial function.
Free radicals occur in trace quantities in biological tissues and are extremely reactive. Because of the difficulty of directly measuring free radicals in living individuals, measurements can be made using biomarkers, for example, an assay of antioxidant vitamins and free radical scavengers. Therefore, oxidative stress has been mainly observed through such indirect biomarkers in aerobic organisms, as oxidative damage to tissues and organs. This is prevented by a network of defenses, which include antioxidant and repairing enzymes, as well as small molecules with scavenging ability, such as antioxidant vitamins. For these reasons, the assay of antioxidant vitamins and of small molecular free radical scavengers in biological milieus may be used, if appropriately performed, to quantify the defense status against oxidative damage and to provide an indirect estimate of free radical production in aging individuals.
Malondialdehyde (MDA) levels in both blood and urine have been one of the most widely used free radicals markers. Measurement of MDA excretion in the urine became available in 1964. MDA is the end product of lipid peroxidation and this urinary colorimetric assay represents by far the simplest approach to measurement of free radical activity. Furthermore, this colorimetnc assay has been highly significantly correlated with the fluorometric or more sophisticated laboratory approach.
Mammalian cells normally possess elaborate defense mechanisms to detoxify radicals. Radical-scavenging antioxidants such as Vitamin C, Vitamin E and beta-carotene interrupt the chain by capturing the radical. Excessive amounts of cellular oxidants, which animal cells constantly produce, can induce oxidative damage. Cellular antioxidants provide a defense against the damaging effects of the cellular oxidants. However, in moderate concentrations, cellular oxidants are necessary for a number of protective reactions, which eliminate cancerous and other life threatening cells, such as antimicrobial phagocytosis and apoptosis. Abundant antioxidants could suppress normal protective functions, especially in people with low baseline levels of cellular oxidants. Conventional antioxidant supplements can be harmful in high doses and safe antioxidant supplementation requires an accurate dosage level according to each individual?s needs.
A delicate balance exists between the production of free radicals and the production of antioxidants. Free radicals are produced in the body as by-products of normal metabolism as well as being a result of exposure to radiation and some environmental pollutants. They are normally neutralized by the body?s production of antioxidant enzymes (super oxide dismutase, catalase, and glutathione peroxidase) and the nutrient-derived antioxidant small molecules such as Vitamin A, Vitamin C, carotene, flavonoids, glutathione, uric acid, and taurine. The natural balance can be upset by pathological conditions in which there is increased oxidative stress, such as diabetes. Oxidative stress can cause a reduction in the body?s normal production of antioxidant enzymes.
Despite extensive research on the use of antioxidant supplements, however, there is no clear-cut consensus that these antioxidants are totally successful in reducing or eliminating free radicals. There is, however, considerable evidence that the antioxidants found in natural sources, such as vegetables and fruits, do have a beneficial effect. It is of considerable interest that antioxidants themselves do not ordinarily cross the blood brain barrier, a significant problem in reducing the known negative effects of free radicals in many degenerative central nervous system diseases, such as Alzheimer?s.
Interestingly, there is only one known non-antioxidant technique for reducing free radicals. That is, 6 degrees head down bed rest; however, that can require as much as 17 days of simulated weightlessness. Furthermore, bed rest and the corresponding inactivity have also been linked to increased free radical levels.
The discovery that the Ring of Crystal markedly reduces free radicals is the first major new breakthrough in our search for health and longevity. Every human should take advantage of this remarkable innovation.
In 80 percent of individuals, free radicals are reduced an average of 80 percent after just two to three days of stimulation of the Ring of Crystal. Indeed, in at least 50 percent of individuals, free radicals are eliminated.
Considering all of the aspects of managing free radicals and the pathology associated with them, our discovery of a significant decrease in free radicals after electrical stimulation of the Ring of Crystal is of great interest. Patent applied for.
The LissTENS should be used on GV20 and SP4 and the She-LiTENS on all other points.

Use Of the LissTENS For Overcoming Depression

The LissTENS is excellent as a major therapeutic device for recovery from depression. Used transcranially for 40 to 60 minutes each morning before noon, it will be all that is needed to treat about 50% of depressed patients. The wet electrodes are placed on either temple and held in place with either the Velcro straps or a baseball cap. Alternate days, the electrodes are placed on center of forehead and just beneath hairline on upper neck. Patients do not need to be restricted while using this for depression. That is they can go about their morning activities, while the Liss activates and optimizes beta endorphin and serotonin.
For those who need more than the Liss, three other activities are great adjuncts. Photostimulation at the lowest possible frequency can be done well with a strobe light from Radio Shack. I prefer the one with 3 removable plastic color disks. Green is best or a combination of blue and red, to give violet. Patients should look directly at the light for one hour. This approach alone is excellent for many depressed patients. Secondly, it is best if the patient listens to great classical music while watching the photo-stimulator. Third, patients should read and DO the 90 DAYS TO STRESS-FREE LIVING program in my book by this title. With the Liss, photostimulation, music, and the self-directed program of the book, we can treat at least 85% of depressed patients adequately without drugs. Other useful adjuncts are:
  • Tryptophan up to 10 grams daily
  • Lithium Orotate 45 mg. daily
  • Taurine 3 grams daily


Individuals who wish optimal youth and health, should use the LissTENS and She-LiTENS daily on one of the Sacred Rings, with the following sequence:
Fire, Crystal, Earth, Crystal, Fire, Crystal, ?Water, Crystal, Earth, Crystal, Fire, Crystal, Earth, Crystal, Water, Crystal.
This 16 day basic rhythm is the recommended one. Then restart.
The stimulation can be done with one lead always on GV 20 and then a pair of leads used on each pair of points, starting at the lowest acupuncture points and working up, applying one or two milliamps of current (one or two yellow lights flashing), each pair of points being stimulated for 5 minutes. Of course one can stimulate at one time up to 4 points below the GV 20 point, using a total of 5 leads; but this is a bit cumbersome! Individuals should be at perfect rest during stimulation of the Rings. No television, etc!!!
Of course, healthy individuals should also exercise adequately, eat well and take appropriate supplements, as outlined in my Recommendations for Everyone.

Potential Regeneration of the Body/Nervous System

(Liss and She-LiTENS)
Individuals wanting to use electrotherapy for regeneration should do two Rings each day, using the following 7-day pattern:
  • Fire, Crystal
  • Earth, Crystal
  • Fire, Crystal
  • Earth, Crystal
  • Fire, Crystal
  • Earth, Crystal
  • Water, Crystal
It is particularly important for individuals to visualize their intent during the stimulation. I recommend at least listening to the appropriate audio tape for guided imagery of each Ring.
Neurochemical Purpose Of Each Ring:
Fire - restore DHEA
Earth - optimize Calcitonin
Water - balance Aldosterone
Crystal - reduce Free Radicals

For Weight Loss

Optimally, one should do both Ring of Fire and Ring of Water, daily.                                                                                                                         Source:

Friday, 19 June 2015

एक्यूपंक्चर और फिजियोथेरेपी संयुक्त

एक्यूपंक्चर का प्रयोग और दर्द के इलाज के लिए शरीर की एक्यूपंक्चर बिंदुओं को जोड़ तोड़ कोई एक नई अवधारणा का मतलब है, और इसके उपयोग के लिए समर्थन लगातार एक्यूपंक्चर के बारे में हमारी समझ और इसके लाभों पर बनाने के लिए मदद करने के वैज्ञानिक अध्ययन के एक बढ़ती धन के लिए धन्यवाद बढ़ रही है के द्वारा होता है।

ब्रिटेन में, वैज्ञानिकों, या तो लगभग बिना किसी अपवाद के एक्यूपंक्चर और एक्यूपंक्चर बिंदुओं के उपयोग का समर्थन किया है पिछले दस वर्षों में किए गए एक्यूपंक्चर की प्रभावकारिता और बीमारियों और स्थितियों की एक व्यापक और विविध रेंज के लिए एक्यूपंक्चर बिंदुओं के उपचार, और अध्ययन शोध किया है बजाय पारंपरिक दवा का या इसे साथ।

एक्यूपंक्चर नियंत्रित वातावरण के भीतर किए गए स्वतंत्र वैज्ञानिक अनुसंधान के परिणाम के रूप में एक तेजी से उत्साहित निम्नलिखित प्राप्त कर रहा है, जिसमें विशेष रूप से एक ऐसा क्षेत्र है, भौतिक चिकित्सा के चिकित्सकों के द्वारा होता है। भौतिक चिकित्सा में तनाव, मोच और मांसपेशियों की स्थिति से उनके वसूली में अपने उपयोगकर्ताओं को सहायता करने के लिए, और कोमल ऊतकों को नुकसान और जोड़ों और मांसपेशियों के कई अन्य बीमारियों की मरम्मत के लिए करना है, जो एक विशेषज्ञ भौतिक चिकित्सा है।

कई लोगों को स्वतंत्र चिकित्सकों के साथ निजी सत्र की व्यवस्था है, जबकि वजह से सभी भौतिक चिकित्सा उपचार से काफी फायदा हो सकता टूटी हुई हड्डियों के उपचार के लिए गठिया, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और मांसपेशियों के अपव्यय के रूप में शर्तों के पीड़ित है, और, फिजियोथैरेपी दोनों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए एन एच एस पर व्यापक रूप से उपलब्ध है अल्पावधि और पुरानी बीमारियों।

फिजियोथेरेपी सवाल में क्षेत्र के बाहरी शारीरिक हेरफेर के माध्यम से विशिष्ट मांसपेशियों, जोड़ों या नरम ऊतक समस्याओं का इलाज करने के लिए करना है। अभ्यास में, इस कोमल व्यायाम, मालिश और मार्गदर्शन हाथ पर हेरफेर, और, जोड़ों और मांसपेशियों को स्वतंत्र रूप से आगे बढ़ रखने के लिए ताकत का निर्माण और ठीक करने के लिए व्यर्थ की मांसपेशियों में मदद करने के लिए डिजाइन अन्य उपचार और व्यायाम की एक विस्तृत श्रृंखला सहित कई रूपों, ले जा सकते हैं। समय के साथ, रोगियों, दर्द का एक आसान से शरीर की एक्यूपंक्चर बिंदुओं का उपचार भी प्रदान कर सकते हैं जो movement- सभी लाभों की गतिशीलता की वृद्धि की सीमा है और अधिक से अधिक स्वतंत्रता लाभ चाहिए।

एक्यूपंक्चर की तरह, भौतिक चिकित्सा पूरी तरह से प्राकृतिक और गैर इनवेसिव है, और किसी भी ड्रग्स या दवाओं के प्रशासन को शामिल नहीं करता। एक्यूपंक्चर और एक्यूपंक्चर बिंदुओं के उपचार के मूल सिद्धांत शरीर को संतुलित और पूरे शरीर में ऊर्जा रास्तों से किसी भी रुकावटें खाली करने के लिए है, क्योंकि एक्यूपंक्चर बिंदुओं के पूरक उपचार भौतिक चिकित्सक के रोगियों के लिए काफी लाभदायक हो सकता है। एक्यूपंक्चर उपचार लक्ष्य और भौतिक चिकित्सा उपचार के लक्ष्यों के साथ symbiotically काम है, और शरीर की क्यूई ऊर्जा स्वतंत्र रूप से बहती है और physiotherapeutic सत्र और उपचार का लाभ मिलना के लिए ग्रहणशील है कि यह सुनिश्चित करने की दृष्टि से शरीर में एक सिर शुरू कर दे।

स्वास्थ्य और नैदानिक ​​उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय संस्थान (नाइस) एक अल्पकालिक है और अत्यधिक अन्य परिस्थितियों के बीच पुराने और गैर विशिष्ट लगातार पीठ के निचले हिस्से में दर्द के लिए प्रभावी उपचार, लागत वास्तव में भौतिक चिकित्सा के साथ संयोजन में है कि एक्यूपंक्चर की सिफारिश की है।
निजी प्रथाओं और एनएचएस में ही दोनों एक्यूपंक्चर और फिजियोथेरेपी का एक संयोजन उपचार के पाठ्यक्रम के लिए रोगियों का उल्लेख है, और अपने चिकित्सक या स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर आप मदद कर सकते हैं कि एक उपचार के विकल्प के रूप में भौतिक चिकित्सा पता चलता है, के हिस्से के रूप में भौतिक चिकित्सा के साथ संयुक्त एक्यूपंक्चर के बारे में उनसे पूछ पर विचार कर सकते हैं अपने के रूप में अच्छी तरह से समग्र उपचार प्रोटोकॉल।

हुआ Tuo के पैरा-कशेरुकी एक्यूपंक्चर

हुआ Tuo C140-c208 से, चीनी इतिहास के तीन राज्यों युग के भीतर हान राजवंश के समय के दौरान रहते थे जो एक सम्मानित चीनी चिकित्सक था। हुआ Tuo वह परंपरागत सर्जरी और संज्ञाहरण में की गई प्रगति के लिए प्रसिद्ध हो गया है, और एक शल्य प्रक्रिया के दौरान इस्तेमाल किया संज्ञाहरण के लिए जाना जाता पहले व्यक्ति होने का गौरव रखती है।
हमारे लिए सबसे दिलचस्प हालांकि, (अन्य कौशल के बीच) एक एक्यूपंक्चर व्यवसायी के रूप में अपने बेहतर योग्यता और स्पाइनल कॉलम के साथ 34 पैरा-कशेरुकी एक्यूपंक्चर अंक (PVAPS) की विशेष रूप से उसकी पहचान कर रहे हैं। इन 34 PVAPS में एक्यूपंक्चर के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है, और कभी कभी मानव शरीर के हर बीमारी या बीमारी का इलाज करने में सक्षम रूप में की सराहना कर रहे हैं। PVAPS पारंपरिक नैदानिक ​​एक्यूपंक्चर, स्वयं एक्यूपंक्चर, एक्यूप्रेशर, और किसी भी फर्म डिजिटल दबाव सहित उपचार प्रोटोकॉल की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए समान रूप से अच्छी तरह से प्रतिक्रिया।
34 अंक काठ से 5 दू माई मध्याह्न या वक्ष 1 (T1) से कशेरुकी रीढ़ की हड्डी के ऊपर मध्यम रेखा (एल 5) को द्विपक्षीय स्तर पर आसन्न, रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर के साथ 17 जोड़े की एक लाइन में चला रहे हैं। आप जिस तरह से नीचे MBW35_1 बात करने के लिए हैं। तकनीकी तौर पर प्रत्येक बिंदु पहलू जोड़ों या रीढ़ की हड्डी के छोटे कशेरुका जोड़ों के क्षेत्र में स्थित है, और काम chiropractic उपचार के meric प्रणाली, लगभग निश्चित रूप से की वजह से इसकी प्रभावशीलता का एक अच्छा हिस्सा प्राप्त है कि एक और उपचार के लिए एक बहुत ही इसी ढंग से किया जाता है, बोल एक्यूपंक्चर बिंदुओं की हुओ Tuo के 17 जोड़े में हेरफेर करने के लिए।
लोकप्रिय का उपयोग करता
विभिन्न विभिन्न में प्रयोग किया जाता है जब 34 पैरा-कशेरुकी एक्यूपंक्चर बिंदुओं के उपचार और हेरफेर बीमारियों और रोगों की एक किस्म तालमेल और छह फू अंगों और पांच झांग अंगों (भविष्य के पदों में शामिल किया जा सकता है) के विनियमन के लिए, साथ ही इलाज के साथ श्रेय दिया जाता है संयोजन।
एक संक्षिप्त ठहरनेवाला के रूप में, निम्नलिखित बातों और संकेत सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है:
  • सिर के लिए सी 1-सी 4
  • गर्दन के लिए सी 1-सी 7
  • ऊपरी extremities के लिए सी 4-सी 7
  • सीने के लिए सी 7-T9
  • समास मे प्रयुक्त रूप-त्रिक क्षेत्र के लिए T8-L5
  • कम extremities के लिए एल 2-S2
  • श्रोणि के लिए एल 2-S4
बातों में से किसी के उपचार में भी इस तरह रीढ़ और पीठ की समस्याओं, मांसपेशियों की चोट या पीठ में कमजोरी, आंतरिक की बीमारियों के रूप में स्थितियों के लिए संकेत दिया है स्थानीयकृत तंत्रिका दर्द या मांसपेशियों की जकड़न, और संयोजन में सभी बिंदुओं के के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है अंगों, और दाद।
एक्यूपंक्चर बिंदुओं का हुआ Tuo के 17 जोड़े समान रूप से अच्छी तरह से वे शायद शरीर पर acupoints का सबसे अधिक उपयोग किया सेट कर रहे हैं, जहां नैदानिक ​​एक्यूपंक्चर, के लिए अनुकूल हैं। हुआ Tuo के पैरा-कशेरुकी अंक के आत्म-एक्यूपंक्चर प्रदर्शन के साथ एक संभावित मुद्दा उनके स्थान होने के कारण, यह किसी भी सटीकता के साथ अंक का पता लगाने और एक ही शरीर पर उचित रूप से सुइयों स्थान के लिए मुश्किल हो सकता है, कि है! यह उपचार में एक साथी या परिवार के किसी सदस्य की सहायता के लिए बिल्कुल संभव है, और आत्म-एक्यूपंक्चर प्रेस सुइयों लंबे मिमी की एक जोड़ी के रूप में, वे बहुत गहरा डाला ताकि लिए कुल शुरुआती के लिए भी उपयोग करने के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हैं नहीं किया जा सकता कला। एक बार जब प्रेस सुई जगह में टेप किया जा सकता है और वास्तव में विभिन्न स्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए PVAPS के इलाज के लाभ को अधिकतम करने के लिए, एक समय में घंटे या दिन के लिए शरीर पर काम कर छोड़ दिया, sited।

एक झटके के बाद एक्यूपंक्चर

एक स्ट्रोक, या यह अपने सही नाम, एक cerebrovascular दुर्घटना देने के लिए, मस्तिष्क समारोह की एक तेजी से नुकसान होता है जो मस्तिष्क, रक्त की आपूर्ति में गड़बड़ी का उल्लेख किया जाता शब्द है। समारोह की इस अचानक शुरू होने के अभाव में से एक पर हाथ या पैर को स्थानांतरित करने में असमर्थता या शरीर के दोनों ओर, भाषण की क्षमता में कमी, ठीक से देखने के लिए अक्षमता, और कई अन्य प्रभाव सहित कई मायनों में प्रकट कर सकते हैं।
एक्यूपंक्चर का प्रयोग और सकारात्मक वसूली सहायता और इस तरह के भाषण, पक्षाघात की हानि और जुड़े मिजाज और समारोह के ऐसे अचानक नुकसान ला सकता है कि अवसाद के रूप में स्ट्रोक से प्रभावित स्थितियों की कार्यक्षमता में सुधार के क्रम में एक्यूपंक्चर बिंदुओं का इलाज आमतौर पर इस्तेमाल किया जाता है कि कुछ तो है जापान और चीन में एक समग्र उपचार प्रोटोकॉल के हिस्से के रूप में।
क्लिनिकल परीक्षण अमेरिका और स्वीडन, दोनों ही में किए गए साथ स्ट्रोक से वसूली में सहायता करने के लिए एक्यूपंक्चर बिंदुओं के इलाज पर पश्चिमी दुनिया में रुचि, पिछले पांच या इतने वर्षों के भीतर वृद्धि पर दिया गया है। पारंपरिक ओरिएंटल मेडिसिन के महाराजा कॉलेज द्वारा आयोजित और Neurorehabilitation के अमेरिकन सोसायटी की आधिकारिक जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पारंपरिक स्ट्रोक पुनर्वास उपायों के साथ प्रयोग किया जाता है जब प्रासंगिक एक्यूपंक्चर बिंदुओं के इलाज के लिए एक स्ट्रोक "शारीरिक कामकाज और वसूली में सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण लाभ का उत्पादन करने के बाद संकेत दिया कि । "
यह आम तौर पर बहुत पारंपरिक स्ट्रोक उपचार की तरह है, स्ट्रोक के लिए जल्दी ही है कि एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार शुरू किया जा सकता है कि माना जाता है, और अधिक प्रभावी उपचार किया जाएगा। हालांकि, मस्तिष्क में सूजन या इस को हल करने के लिए इंतजार कर, संदिग्ध या निदान है खून बह रहा है अगर पुरजोर सिफारिश की है। एक्यूपंक्चर रक्त वाहिकाओं को खोलने के लिए और आम तौर पर एक लाभदायक प्रभाव है जो शरीर, चारों ओर बढ़ रक्त प्रवाह के लिए नेतृत्व लेकिन एक मस्तिष्क रक्तस्राव हुआ है अगर कोर्स के लिए हानिकारक हो सकता है कर सकते हैं क्योंकि यह है।
लगातार पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन किया है कि स्ट्रोक के लिए मुख्य एक्यूपंक्चर बिंदुओं DU19, DU20, DU21, BL7, GB20, DU14, REN6, REN12 और ST25 शामिल हैं। विशेष रूप से निचले अंगों को लक्षित अंक GB31, GB34, SP6, ST40, ST36, ST41, और LIV3 में शामिल हैं और ऊपरी अंगों के लिए, LI11, LI15, SJ5, LI4, और LU7। दृष्टि समस्याओं के लिए, एक्यूपंक्चर बिंदुओं BL6 और GB37 सिफारिश कर रहे हैं, और चेहरे का पक्षाघात के लिए, ST4, ST6 और SI18। REN23 और HT5 वाचाघात के लिए सिफारिश कर रहे हैं।
जैसा कि पहले उल्लेख, एक झटके के बाद एक्यूपंक्चर उपचार वास्तव में हो सकता है एक मस्तिष्क रक्तस्राव पहचान या संदेह है तो खून के थक्के, जब तक विपरीत संकेत या अन्यथा नियंत्रण में लाया जाता है। इस कारण से, यह एक्यूपंक्चर सहित वैकल्पिक चिकित्सा, के किसी भी कोर्स पर शुरू होने से पहले स्ट्रोक का इलाज करने के आरोप में प्राथमिक चिकित्सक के साथ परामर्श करने के लिए महत्वपूर्ण है। बहरहाल, जब तक अपने चिकित्सक से जाना आगे, स्वयं एक्यूपंक्चर या नैदानिक ​​एक्यूपंक्चर उपचार के रूप में देता सकारात्मक स्टोक से वसूली और मोटर और तंत्रिका कार्यों की कार्यक्षमता में वृद्धि में सहायता की मदद करने के लिए सिफारिश की है।

फू और झांग अंगों और एक्यूपंक्चर इलाज

पारंपरिक चीनी चिकित्सा में छह फू अंगों और शरीर के पांच झांग अंगों एक साथ एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार के सबसे प्रकार के आधार के रूप में। झांग अंगों ', यांग' फू अंगों को 'यिन' माना जाता है और यिन और यांग के बीच संतुलन पारंपरिक एक्यूपंक्चर बिंदु चिकित्सा का एक और मौलिक सिद्धांत है कर रहे हैं। फू और झांग अंगों एक फू और एक झांग घटक के जोड़े में इलाज कर रहे हैं, और एक साथ इलाज किया जब प्रत्येक जोड़ी एक्यूपंक्चर दर्शन के लिए केंद्रीय हैं कि वू ज़िंग, या पांच तत्वों में से एक, से मेल खाती है।
अक्सर तकनीकी विभिन्न एक्यूपंक्चर बिंदुओं का विवरण और उनके उपयोग को डिकोड करने की कोशिश कर एक्यूपंक्चर के लिए नए उन लोगों के लिए, शरीर के विभिन्न क्षेत्रों का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल अक्सर विदेशी और कभी कभी विदेशी भाषा का उल्लेख करने के लिए और उनके कार्यों चुनौतीपूर्ण हो सकता है नहीं!
इस ब्लॉग पोस्ट में, हम फू और झांग शरीर के अंगों और उनके कार्यों के बारे में एक छोटे से अधिक समझा जाएगा, और बनाया जाएगा जो फू और झांग एक्यूपंक्चर बिंदुओं का एक बेहतर समझ पाने के लिए पथ, साथ में आप एक सिर शुरू कर दे बाद में प्रविष्टियों में पर।

शरीर के छह फू अंगों
शरीर के छह फू अंगों हैं:
  • बड़ी।
  • पित्ताशय।
  • मूत्राशय।
  • पेट।
  • छोटी आंत।
  • ट्रिपल बर्नर। ट्रिपल बर्नर शरीर के तीन अलग-अलग क्षेत्रों के शामिल है; श्रोणि क्षेत्र, कपाल क्षेत्र और क्रमशः दिल क्षेत्र।

शरीर के पांच झांग अंगों
शरीर के पांच झांग अंग हैं:
  • दिल।
  • फेफड़ों।
  • तिल्ली।
  • जिगर।
  • गुर्दे की।

फू, झांग और उनके एक्यूपंक्चर अंक
अक्सर एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार के साथ मामला है, संबंधित फू और झांग अंगों में से प्रत्येक के लिए एक्यूपंक्चर बिंदुओं के वास्तविक स्थान सवाल में अंग के भौतिक स्थान के बिल्कुल अनुरूप नहीं है, क्योंकि यह है कि नोट के लिए महत्वपूर्ण है। किसी विशेष अंग या शरीर के क्षेत्र के उपचार अक्सर सवाल में अंग से चलता है कि चैनल (या मध्याह्न) लक्षण प्रकट करने के लिए माना जाता है, जहां एक और क्षेत्र में स्थित हैं कि एक्यूपंक्चर बिंदुओं पर किया जाता है। झांग अंगों के सभी शरीर के एक छिद्र 'में खुला' माना जाता है; इस झांग अंगों में से एक के साथ समस्याओं का अंग ही की वास्तविक स्थान में एक दर्द या बीमारी के रूप में मौजूद है, लेकिन शरीर के दूसरे हिस्से में लक्षणों के साथ होगा बजाय उपस्थित नहीं हो सकता है कि इसका मतलब है। उदाहरण के लिए, जिगर झांग जिगर के साथ एक अंतर्निहित समस्या के कारण वास्तव में है कि आंखों के चारों ओर दृष्टि, तनावपूर्ण आँखें और दर्द के साथ समस्याओं को जन्म दे सकता है, जो आंखों, 'में खुला' माना जाता है। 
बस आगे एक्यूपंक्चर के लिए नए लोगों के लिए संभावित भ्रम को जोड़ने के लिए, किसी भी अंग 'में खुलता है' कि छिद्र प्रासंगिक एक्यूपंक्चर बिंदुओं के लक्षण और समस्या का मूल कारण स्थित हो जाएगा इलाज के लिए जिस पर पांच जरूरी अभी भी नहीं है! तथ्य यह है कि विशेष रूप से अपने इलाज के पैर के आसपास स्थित अंक, और नाखून है में जिगर झांग, कि, 'आँखों में खुलता है'। 
रखें फू और झांग अंगों का इलाज करने के लिए आवश्यक विभिन्न एक्यूपंक्चर बिंदुओं का पता लगाने के लिए, के साथ साथ अपने विशिष्ट आधार पर फू और झांग अंगों के साथ समस्याओं की पहचान कैसे करें, जहां हम सरल शब्दों में समझा जाएगा के रूप में आने वाले हफ्तों में DIYacu ब्लॉग पर यहाँ वापस जाँच लक्षण।

वू ज़िंग, या 'पांच तत्वों' एक्यूपंक्चर की

वू ज़िंग पारंपरिक चीनी दुनिया के बारे में विश्वास है और इसके साथ हमारी बातचीत की एक विस्तृत श्रृंखला को शामिल पांच तत्वों या चीनी दर्शन के एजेंट हैं। 'वू' का अर्थ है 'पांच', और 'ज़िंग' का अर्थ है 'आंदोलनों', और पांच वू ज़िंग तत्वों के बीच संबंधों को तरल पदार्थ और अस्थिर माना जाता है।
सब कुछ पाँच वू ज़िंग तत्वों में से एक के द्वारा करने के लिए संबंधित या शासित माना जाता है, और पांच तत्वों के बीच संतुलन के लिए की जरूरत चीनी दर्शन और विश्वासों का मूल सिद्धांत है। वू ज़िंग जीवन, शरीर, ब्रह्मांड और इसके साथ हमारे रिश्ते के बारे में पारंपरिक चीनी दर्शन के हर क्षेत्र का अभिन्न अंग है, और संगीत के लिए, चाय समारोह के लिए, मार्शल आर्ट से, एक महान कई बातों के लिए व्यावहारिक रूप से लागू किया जाता है, और जाहिर है, एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार और अन्य पारंपरिक चीनी चिकित्सा। पांच वू ज़िंग तत्वों की लकड़ी, अग्नि, पृथ्वी, धातु और जल रहे हैं।
वू ज़िंग और शरीर के फू और झांग अंगों
वू ज़िंग विशेष रूप से फू और झांग अंगों, और उन्हें प्रभावित करने वाले एक्यूपंक्चर बिंदुओं के इलाज के मामले में एक्यूपंक्चर से संबंधित है। एक फू अंग और एक झांग अंग एक एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार प्रोटोकॉल के भाग के रूप में रखा जाता है, परिणामस्वरूप जोड़ी पांच वू ज़िंग तत्वों में से एक के शीर्षक के अंतर्गत आने के लिए माना जाता है। फू और झांग अंगों हमेशा शरीर की प्राकृतिक संतुलन, एक्यूपंक्चर उपचार का एक अनिवार्य सिद्धांत बनाए रखने के लिए, एक फू और एक झांग से मिलकर जोड़े में व्यवहार किया जाना चाहिए। झांग अंगों 'यिन' के रूप में नामित कर रहे हैं और फू अंगों के रूप में नामित कर रहे हैं 'यांग,' और पाठ्यक्रम के यिन और यांग के बीच संतुलन शरीर में ही संतुलन में रहता है सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है, और (शिरोबिंदु के किसी भी रुकावटें से ग्रस्त नहीं है या चैनलों संभावित बीमारियों, भावनात्मक समस्याओं और विभिन्न अन्य परिस्थितियों के कारण हो सकता है कि जो ऊर्जा प्रवाह) के साथ।
वू ज़िंग संतुलन
शरीर की झांग अंगों के लिए कोई भी उचित एक्यूपंक्चर अंक के हेरफेर के माध्यम से इलाज किया जाता है, जब वह इसी फू अंग भी ठीक इसके विपरीत व्यवहार किया जाता है, और है कि महत्वपूर्ण है। शरीर की यिन यांग संतुलन बंद तरतीब फेंक दिया जाएगा, के रूप में वास्तव में काउंटर उत्पादक हो सकता है स्वास्थ्य लक्षणों को कम या सुधार करने के लिए एक पृथक अंग का इलाज करने का प्रयास, इस कर के बिना। यह इसलिए, झांग अंगों, उनके इसी फू अंग है, और उन्हें नियंत्रित करता है कि वू ज़िंग तत्व में से प्रत्येक के बीच के रिश्ते को समझने के लिए महत्वपूर्ण है। अंग खुद के क्षेत्र में प्रकट नहीं हो सकता है फू या झांग अंगों में से किसी के साथ कोई समस्या या मुद्दे के लक्षण; फू और झांग अंगों के सभी अन्य क्षेत्र में एक अंतर्निहित समस्या के लक्षण प्रकट होगा जहां शरीर की एक अलग मुंह में खोलने के लिए माना जाता है।
हमारे पर एक नज़र तालिका को आसान बनाने में मदद करने के लिए है, और आप एक आसान संदर्भ गाइड देना चाहिए जो फू अंग जोड़े के रूप में जो झांग अंग के साथ।
वू ज़िंग तत्व
झांग अंग (यिन)
फू अंग (यांग)
प्रभावित करता है
छोटी आंत
एक्यूपंक्चर बिंदु के उपचार और फू और झांग अंगों के वू ज़िंग सिद्धांत खुद को एक्यूपंक्चर के लिए नए लोगों और घर पर अपने स्वयं एक्यूपंक्चर बिंदुओं का इलाज करने के लिए सही तरीका स्थापित करने की कोशिश के लिए भ्रामक साबित हो सकता है। अगले कुछ हफ्तों के दौरान, DIYAcu प्रासंगिक झांग और फू अंगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है करने के लिए आदेश में इलाज के लिए शरीर के संबंधित एक्यूपंक्चर अंक और क्षेत्रों की स्थापना पर कुछ और जानकारी के साथ आप के लिए चीजों को आसान बनाने के लिए मदद करने की कोशिश करेंगे । 

फू और झांग अंगों और वू ज़िंग: एक समस्या के लक्षण की पहचान

झांग और फू अंगों में से प्रत्येक शरीर के एक अलग क्षेत्र में लक्षण प्रकट होता है। हल करने के लिए इलाज के लिए उचित उपचार प्रोटोकॉल और जो एक्यूपंक्चर अंक नीचे संकीर्ण करने के झांग या फू अंगों और क्रम में वू ज़िंग के संतुलन के साथ संभावित समस्याओं की पहचान करने में मदद करने के लिए, एक पर एक नज़र लक्षण चेकर के रूप में यह आसान सूची का प्रयोग करें उन्हें।
वू ज़िंग के साथ संभावित रुकावटें या समस्याओं के लक्षण
आप निम्न लक्षण या समस्याओं में से किसी से पीड़ित हैं? ये एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार की आवश्यकता होगी कि शरीर के फू या झांग अंगों में से एक या अधिक के साथ एक समस्या का संकेत हो सकता है।
आँखें और दृष्टि के साथ 1. समस्याएं
आपने हाल ही में अपनी आँखों से संबंधित किसी भी समस्याओं का विकास करने के लिए शुरू किया है? सूखी, खुजली आँखें, दर्द आंखों या अपनी दृष्टि को प्रभावित या आप 'लकड़ी' वू ज़िंग तत्व के साथ एक असंतुलन से पीड़ित हैं मतलब हो सकता है आंख क्षेत्र में दर्द या बेचैनी का कारण है कि किसी भी अन्य समस्याओं के पीछे, कठिनाई ध्यान केंद्रित, दृष्टि में असफल रहने, जो जिगर (झांग) और / या पित्ताशय (फू) अंगों से संबंधित है।
जीभ के साथ 2. समस्याएं
जीभ शरीर की अन्य मांसपेशियों के संबंध में छोटा हो सकता है, लेकिन यह दोनों आधुनिक और पारंपरिक चिकित्सा में एक महत्वपूर्ण नैदानिक ​​उपकरण है, और अक्सर स्वास्थ्य का एक संकेतक के रूप में इस्तेमाल किया। अपनी जीभ, सूखी प्यारे, सूजन, दर्द, संवेदनशील, या घावों या अल्सर विकसित करने की संभावना है, तो आप दिल में एक इसी मुद्दे की वजह से 'आग' वू ज़िंग तत्व, (झांग) और / के साथ एक अंतर्निहित समस्या हो सकती है छोटी आंत या शरीर के ट्रिपल बर्नर (फू) अंगों या।
मुँह के साथ 3. समस्याएं
क्या सामान्य रूप में मुंह के साथ समस्याओं के बारे में? ये तिल्ली (झांग) और / या पेट (फू) अंगों में एक रुकावट या असंतुलन के कारण होता है जो 'पृथ्वी' वू ज़िंग चैनल के साथ एक रुकावट या समस्या का संकेत हो सकता है। सूखे, फटे होंठ, घावों या अल्सर मुंह में सूजन मसूड़ों, मसूड़े और दाँत समस्याओं के साथ ही संवेदनशीलता, दर्द या बेचैनी सभी संभावित संकेत दिए गए हैं।
त्वचा, बालों और pores के साथ 4. समस्याएं
आप सूखा या flaking त्वचा, रूसी, अस्वस्थ बाल और नाखून, धब्बे और breakouts, एक्जिमा, सोरायसिस या बाल thinning के साथ पीड़ित हैं? इन समस्याओं, अधिक पानी प्रतिधारण या पानी गुजर समस्याओं का कोई भी फेफड़ों (झांग) और / या बड़ी आंत (फू) के एक रुकावट के कारण होता है जो 'धातु' वू ज़िंग तत्व है, के साथ एक समस्या का संकेत हो सकता है।
कान और सुनवाई के साथ 5. समस्याएं
अपने कान आपको असुविधा पैदा कर रहे हैं, या आप ऐसे अत्यधिक मोम उत्पादन, सुनवाई की हानि, आवर्तक संक्रमण के earaches, के रूप में किसी भी समस्याओं से पीड़ित हैं, तो शायद अपने 'पानी' वू ज़िंग तत्व के संतुलन से बाहर है। यह तत्व गुर्दे (झांग) और मूत्राशय (फू) को नियंत्रित करता है।
आप शायद अब तक देख सकते हैं, सवाल अपने आप में अंग के साथ एक दर्द या समस्या के रूप में पहले उदाहरण में शायद ही कभी प्रकट फू और झांग अंगों या वू ज़िंग की एक सामान्य असंतुलन के साथ एक समस्या के लक्षण! एक्यूपंक्चर बिंदु उपचार के सिद्धांत शरीर चैनल की एक श्रृंखला से जुड़ा हुआ है कि समझ पर निर्भर करता है, और ऊपर वर्णित लक्षणों के सभी उनके शासी फू या झांग अंग के साथ एक समस्या की अभिव्यक्ति के रूप में के बारे में आ सकता है।
फू और झांग अंगों के लिए उपयुक्त एक्यूपंक्चर बिंदुओं के उपचार के लिए एक भविष्य ब्लॉग प्रविष्टि में शामिल किया जाएगा।